Saturday, 2 July 2016

Purvanchal Rajya Janandolan

किसी भी आंदोलन को बोझ समझकर नहीं उठाया जाता ।। न ही अपने व्यक्तिगत लाभ को देखकर ।। जन आंदोलन में जन भागीदारी होती है और जन भागीदारी में लाजमी है विचारों का भिन्न होना लेकिन एकाधिकार किसी का नहीं होता । ऐसे आंदोलन उन सब के हैं जो विधर्भ और पूर्वांचल जैसे पृथक राज्य को विकास और लोकहित के लिए जरूरी मानते हैं और उसका किसी भी रूप से समर्थन करते हैं ।। लेकिन मेरे कुछ मित्र ग्रुप ग्रुप खेल रहें हैं  ।। उनको ये ग़लत फहमी हो गयी है कि ये आंदोलन उन्ही तक है ।।। बहुत कोशिश पहले हुवी ।। वही आज भी हो रही हैं और हो सकता है हमारे आगे आने वालों को भी करनी पड़े लेकिन  इसमें किसी भी दौर के लोगों की कोशिश में कोई कमी रही होगी ये जरुरी तो नहीं ।।। निवेदन है आप सबका योगदान अति आवश्यक है । मितथ्या सोच को छोड़कर खुद को पूर्वांचल राज्य जनांदोलन के सयोंजक सदस्य के रूप में अपनी सक्रियता जारी रखें ।। आपको आपका सम्मान और राज्य दोनों मिलेंगे और अपने क्षेत्र के लिए फैसले लेने की ताकत भी मिलेगी । । पवन पंडित  ।।

पृथक पूर्वांचल राज्य की मांग वर्षो से होती आ रही है पर आज तक इसकी लड़ाई लड़ने वाला कोई नही मिला उसकी वजह ये थी की कही आंदोलन को आगे बढाने में पैसे की कमी कही संघठन नही होना और जहाँ संघठन है तो वहां पर नेतृत्व की कमी 



पूर्वांचल को गर्व है अपनी भाषा, अपनी संस्कृति, अपनी सभ्यता, अपने संस्कार व अपने महान धरोहर पर ।

पूर्वांचल- जहाँ विश्व की पुरातन नगरी "काशी" मे भोलेनाथ स्वयं विराजते है ।

पूर्वांचल- जहाँ भगवान राम का जन्म हुआ है अयोध्या, फैजाबाद ।

पूर्वांचल- जहाँ भगवान परशुराम का जन्म हुआ है जमैथा, जौनपुर ।

पूर्वांचल - जहाँ जगत जननी महामाया माता विन्ध्यवासिनी स्वयं बिराजती है, विन्ध्याचल, मिर्जापुर

पूर्वांचल - जहां बुद्ध ने समाधी ली कुशीनगर व उपदेश दिया सारनाथ, वाराणसी ।

पूर्वांचल- जहाँ सत्यवादी राजा हरिशचन्द्र जी का जन्म हुआ है और अपनी सत्यता की कठिन परीक्षा दी, वाराणसी ।।

पूर्वांचल- जहाँ महर्षि वाल्मीकि ,, महर्षि जमदाग्नि ,, महर्षि भारद्वाज ,, महर्षि परशुराम ,,महर्षि वशिष्ठ ,, महर्षि भृगु  ,, महर्षि वेदव्यास ,, योगी गोरखनाथ ,, देवरहा बाबा ,,मंडन मिश्र,, गोस्वामी तुलसीदास ,,संत रहीम,, संत कबीर ,, बाबा कीनाराम ,, संत करपात्री जी,, योगी श्यामाचरण लाहिड़ी का जन्म हुआ । 

पूर्वांचल- जहाँ संस्कृत के प्रकांड पण्डित राहुल सांकृत्यायन का जन्म हुआ, आजमगढ़ ।

पूर्वांचल- जहाँ के 20 साल के क्रांतिकारी मंगल पांडे और चित्तू पांडे ने अंग्रेजी राज की चूलें हिलाकर क्रांति का शंखनाद किया , बलिया । 
महान क्रांतिकारी राम प्रसाद बिस्मिल का जन्म हुआ । बरहज देवरिया ।

पूर्वांचल- जहाँ परम वीर चक्र विजेता अब्दुल हमीद , कैप्टन मनोज पांडे , यदुनाथ सिंह का जन्म हुआ ।

पूर्वांचल- जहाँ गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम है व तीर्थराज प्रयाग कहलाता है जहां दुनियाँ का सबसे विशाल पर्व कुंभ का आयोजन होता है । 

पूर्वांचल- जहाँ भगवती शरण बर्मा , महादेवी वर्मा , मुंशी प्रेमचंद , पं मदन मोहन मालवीय , आचार्य राम चंद्र शुक्ल, भारतेन्दु हरिशचन्द्र, हरिवंशराय बच्चन जैसे महान लेखकों व  पथप्रदर्शकों का जन्म हुआ ।

पूर्वांचल- जहाँ मशहूर शायर फिराक गोरखपुरी और कैफे आजमी का जन्म हुआ ।

पूर्वांचल- जहाँ शहनाई के सरताज बिस्स्मिल्लाह खान का जन्म हुआ ।


एक पूर्वांचली के शब्द 

पूर्वांचल अगर आज विकसित राज्य होता तो पूरे भारत की दिशा और दशा हम पूर्वांचली ही तय करते । आपका साथ पूर्वांचल का विकास। जुड़े पूर्वांचल राज्य जनान्दोलन से ...जय हिन्द .... जय पूर्वांचल ।।

जैसा की आप सभी मित्र जानते है117 विधानसभा और23 लोकसभा वाले पूर्वांचल की धरती उत्तर प्रदेश के अन्य जिलो के अपेक्षा मिट्टि की समृद्धि गुणवत्ता और उच्च केचुआ घनत्व के कारण कृषि के लिए अति अनकूल है।यहां की 75%लोग कृषक या खेतिहर मजदूर है जिनकी प्रमुख जीविका कृषि ही है मित्रो एक उदाहरण जब हमारा जिला कुशीनगर और देवरिया एक हुआ करता था तो आपको जानकर आश्चर्य होगा की उसमे 13 चीनी की मिले हुआ करती थी जिनमे से अधिकतम बन्द पड़ी है ।पुरे क्षेत्र को उर्वरक सप्लाई का एक कारखाना जिसे फर्टिलाइजर गोरखपुर कहते है बन्द है उन कर्मचारियों का दर्द कोई पूछने वाला नही है कृषक आज अपनी चौथी फसल को देख कर सर पिट रहा है मजदूर बेकार है या दूसरे राज्य में पलायन कर चुके है स्थिति बाद से बद्तर होती जा रही है मित्रो आज भी कुछ परिवारो में शाम के भोजन में मात्र रोटी और कोई सब्जी बहुत कठिनाई से मिल पा रहा है। 
1991 में उत्तर प्रदेश सरकार ने पूर्वांचल विकाश निधि की ब्यवस्था किया जिसे सत्ता लोलुप जाती की राजनीति करनेवाले नौकर शाह गडरप कर गए जो पिछडो अनसूचित जाती अनसूचित जनजाति के जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए किया गया था।
मेरे पूर्वांचल के भाइयो आप जरूर विचार करे आपका मन द्रवित हो जायेगा की गरीब और गरीब होता जा रहा है और आमिर और आमिर ये कहां का न्याय है।
आगे बढ़ो और हक से मांगो की पूर्वांचल राज्य हमारा है इसे हम ले के रहेंगे।

पूर्वांचल राज्य की माँग को ले कर प्रधानमंत्री के इलाहाबाद आगमन पर प्रशान्त पाण्डेय और राम प्रकाश तिवारी के नेतृत्व मे प्रदर्शन !!

Like Us On Facebook

No comments:
Write comments

Videos